मई 23, 2013

चंद हाइकु

कुछ समय पहले कुछ हाइकु लिखे थे जो hindihaiku.wordpress.com पर प्रकाशित हुए थे। आज सोचा उसे यहां भी शेयर करूं। दिन के चार अलग-अलग समयों पर लिखे हाइकु पेश हैं:

1
भोर का राग
बुलबुल ने गाया
अब तो जाग

2
संदली दिन
लागे अमावस सा
पिया के बिन

3
सूरज लाल
सांझ की महफिल
जमी कमाल

4
रात नशीली
चांदनी में घोली थी
किसने पी ली?

कुछ और हाइकु लिखने की कोशिश की थी। विवाह के समय एक बिटिया की मनस्थितियों पर -


 
1
मां का आंचल
जीवन की धूप में 
जैसे बादल

2
कोई न भूले
बाबुल की गलियां
बाहों के झूले

3
बहना प्यारी
आएगी याद अब
बातें तुम्हारी

4
ओ री सहेली
जीवन ये लागे है
जैसे पहेली

5
जो था अंजाना
अब वो है अपना
कैसा फसाना

6
हुई परायी
जिस घर में खेली
अम्मा की जायी

7
ले अब चली
बगियन में पी की
नाजुक कली

8
गूंजेंगे गीत
मादक मिलन से
जागेगी प्रीत

21 टिप्‍पणियां:

  1. मां का आंचल
    जीवन की धूप में
    जैसे बादल
    ...
    कोई न भूले
    बाबुल की गलियां
    बाहों के झूले
    सभी हाइकु एक से बढ़कर एक ... अनुपम प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर हाइकू के सृजन,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर....
    नन्ही बिटिया पर भी तो लिखो...
    :-)

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही व्‍यावहारिक, विशेषकर विवाह के समय किसी कन्‍या की मन:स्थिति वाले अत्‍यन्‍त संवेदित, गत्‍यात्‍मक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(25-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओ री सहेली
    जीवन ये लागे है
    जैसे पहेली..bahut badhiya ,,sare acchhe hain ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी हाइकु बहुत सुंदर-एक से बढ़कर एक
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरेया आपके ये कलापूर्ण हाइकू निर्झर टाइम्स पर 'विधाओं की बहार...' में संकलित की गई है।
    कृपया http://nirjhar.times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. kuchh pankti unhi betiyon ke liye-
    kisi shakh pe~
    kisi ped ke~
    chali kukane //

    उत्तर देंहटाएं
  10. सारे हाईकु एक से बढकर एक हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही प्यारे हाइकु...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज २७ मई, २०१३ के ब्लॉग बुलेटिन-आनन् फ़ानन पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! बहुत बढ़िया हाइकु !

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपिका जी ,बहुत दिनों बाद आपकी रचनाएं देख पाई हूँ । पढकर लग रहा है कि प्रशंसा करने में देर भी हुई है और शब्द भी कम पडरहे हैं । बस कमाल हैं ।

    उत्तर देंहटाएं