मई 24, 2012

कवि और कमली


 
तुम श्रृंगार के कवि हो
मुंह में कल्पना का पान दबाकर
कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
प्रेरणा की तलाश में
टेढ़ी नज़रों से
यहां-वहां झांकते हो।
अखबार के चटपटे पन्‍नों पर
कोई हसीन ख्वाब तलाशते हो।

तुम श्रृंगार के कवि हो
भूख पर, देश पर लिखना
तुम्हारा काम नहीं।
क्रांति की आवाज उठाने का
ठेका नहीं लिया तुमने।
तुम प्रेम कविता ही लिखो
मगर इस बार कल्पना की जगह
हकीकत में रंग भरो।
वहीं पड़ोस की झुग्गी में
कहीं कमली रहती है।
ध्यान से देखो
तुम्हारी नायिका से
उसकी शक्ल मिलती है।

अभी कदम ही रखा है उसने
सोलहवें साल में।
बड़ी बड़ी आंखों में
छोटे छोटे सपने हैं,
जिन्हें धुआं होकर बादल बनते
तुमने नहीं देखा होगा।
रूखे काले बालों में
ज़िन्दगी की उलझनें हैं,
अपनी कविता में
उन्हें सुलझाओ तो ज़रा!

चुपके से कश भर लेती है
बाप की अधजली बीड़ी का
आग को आग से बुझाने की कोशिश
नाकाम रहती है।
उसकी झुग्गी में
जब से दो और पेट जन्मे हैं,
बंगलों की जूठन में,
उसका हिस्सा कम हो गया है।

तुम्हारी नज़रों में वह हसीन नहीं
मगर बंगलों के आदमखोर रईस
उसे आंखों आंखों में निगल जाते हैं
उसकी झुग्गी के आगे
उनकी कारें रेंग रेंग कर चलती हैं।
वे उसे छूना चाहते हैं
भभोड़ना चाहते हैं उसका गर्म गोश्‍त।
सिगरेट की तरह उसे पी कर
उसके तिल तिल जलते सपनों की राख
झाड़ देना चाहते हैं ऐशट्रे में।

उन्हें वह बदसूरत नहीं दिखती
नहीं दिखते उसके गंदे नाखून।
उन्हें परहेज नहीं,
उसके मुंह से आती बीड़ी की बास से।
तो तुम्हारी कविता
क्यों घबराती है कमली से।
इस षोडशी पर....
कोई प्रेम गीत लिखो न कवि!

62 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. उसकी झुग्गी में
    जब से दो और पेट जन्मे हैं,
    बंगलों की जूठन में,
    उसका हिस्सा कम हो गया है।
    ....हर शब्द सशक्त आप निश्चित रूप से बधाई की पात्र हैं इतनी सुन्दर प्रस्तुति के लिये ! बधाई स्वीकार करें !

    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  3. चुपके से कश भर लेती है
    बाप की अधजली बीड़ी का
    आग को आग से बुझाने की कोशिश
    नाकाम रहती है।
    उसकी झुग्गी में
    जब से दो और पेट जन्मे हैं,
    बंगलों की जूठन में,
    उसका हिस्सा कम हो गया है।

    दीपिका जी हर पँक्ति में 'शोर' है !!
    हर किसी को झकझोर कर उठा देने वाली इस रचना के लिए बधाई !!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कमली का दर्द श्रृंगार के कवि की कलम से नहीं झरता। सशक्त रचना - आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्रृंगार के कवि....अपनी कल्पना से निकल आएँ...तो उनकी कविता ही गुम हो जाए..
    किसी असली कमली का दर्द उन्हें नहीं छूता...

    सशक्त एवं उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सशक्त रचना .... कमली के जीवन का चित्र ऐसा कवि कहाँ लिख पाएगा ... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कवि यदि समाज के दर्द और यथार्थ को नहीं देख पाता तो सही मायने में कवि बचा ही नहीं वह !

    ...बहुत संवेदनशील रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बस एक शब्द "अद्भुत "

    उत्तर देंहटाएं
  10. शनिवार 26/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. तुम्हारी नज़रों में वह हसीन नहीं
    मगर बंगलों के आदमखोर रईस
    उसे आंखों आंखों में निगल जाते हैं

    आदमखोर जंगल में समूचा निगलने का रिवाज़ है
    बहुत सशक्त रचना ..
    मार्मिक और सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  12. उन्हें वह बदसूरत नहीं दिखती
    नहीं दिखते उसके गंदे नाखून।
    उन्हें परहेज नहीं,
    उसके मुंह से आती बीड़ी की बास से।
    तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि!.... बेजोड़

    उत्तर देंहटाएं
  13. तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि!्…………कितना कडवा सच है ………कौन लिख सकता है? गज़ब का चित्रण्।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह दीपिकाजी .....बहुत ही सुन्दर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. तुम श्रृंगार के कवि हो
    भूख पर, देश पर लिखना
    तुम्हारा काम नहीं।
    क्रांति की आवाज उठाने का
    ठेका नहीं लिया तुमने

    पूरी कविता चेतना जगाने वाली है ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ग़ज़ब की तस्वीर लगाई है और यह बिम्ब सर्वथा अनूठा है -
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस कविता के आक्रोश की आग काश मुझमें और मुझ जैसों में धधक जाता।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही सुंदर रचना....
    बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  21. "तुम श्रृंगार के कवि हो
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नज़रों से
    यहां-वहां झांकते हो

    अखबार के चटपटे पन्‍नों पर
    कोई हसीन ख्वाब तलाशते हो।"
    सुन्दर चित्रण...उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  22. हक़ीकत बयाँ की आपने। श्रृंगार रस की कविता हो या फिल्मी पर्दे पर पैदा किया गया प्रेम का तिलिस्म सब तो वास्तविकता से परे ही होते हैं। पर कुछ जिम्मा पाठकों का भी है वो कितनी हद तक यथार्थ के निरूपण को स्वीकार करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  23. मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नजरों से
    यहां-वहां झांकते हो।

    अच्छी उलाहना दी है आपने।
    बढि़या कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  24. उसकी झुग्गी में
    जब से दो और पेट जन्मे हैं,
    बंगलों की जूठन में,
    उसका हिस्सा कम हो गया है।

    निःशब्द करते भाव एक सुन्दर सत्य को उद्घाटित करती ,वहां कहाँ कविता जन्म लेगी .........

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत खूब ... जब देश जल रहा हो तो श्रृंगार की बातें ठीक नहीं लगती ... कलम की धार मोड़ देनी चाहिए ऐसे में ... लाजवाब प्रभावी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. "तुम श्रृंगार के कवि हो
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नज़रों से
    यहां-वहां झांकते हो

    बहुत सुंदर । मेरे नए पोस्ट कबीर पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. उन्हें वह बदसूरत नहीं दिखती
    नहीं दिखते उसके गंदे नाखून।
    उन्हें परहेज नहीं,
    उसके मुंह से आती बीड़ी की बास से।
    तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि!

    sundar prastuti...

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुनीता जी ...बहुत ही बारीकी से कटाक्ष किया है आपने अपने शब्दों द्वारा ..............याद रही जाने वाली रचना !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सोनरूपा जी मेरा नाम दीपिका है :) वैसे कविता पसंद करने के लिए शुक्रिया...

      हटाएं
  29. वाह !! क्या बात है !! बहुत सशक्त लेखन है आप का . जुड़ रही हूँ आप से .

    उत्तर देंहटाएं
  30. सच में मन्त्रमुग्ध कर देने वाला लेखन
    वस्तुतः कविता केवल श्रृंगार वर्णन नहीं है..ापितु ये भी एक कवि का धर्म बनता है कि वो समाज के उस वर्ग की पीड़ा को जनमानस के सामने लाये जो शोषित है , पीड़ित है , दलित है। ये एक कड़वी सच्चाई है जिससे कतराकर नहीं निकला जा सकता
    बहुत ही मार्मिक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  31. "तुम श्रृंगार के कवि हो
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नज़रों से
    यहां-वहां झांकते हो

    बहुत ही अच्छी कविता ।
    मेरे नए पोस्ट "बिहार की स्थापना के 100 वर्ष" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत गहरी बात कह दी है... हिला देने वाली रचना है.. और कितने सरल शब्द! कोई आडंबर नहीं... साधारण शब्द ये दावा नहीं करते कि हम भाषा के किसी बहुत बड़़े ज्ञाता की रचना से रू-ब-रू हैं, लेकिन यह दावा ठोक-बजा कर करते हैं कि लिखने वाला गहरी संवेदना लिए है औऱ गहन अनुभूति को बखूबी व्यक्त करना जानता है...! बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  33. तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि ...
    गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन ...बधाई स्‍वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  34. तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि ...
    निःशब्द ,निरुत्तर करती हुई रचना तुम्हारी लेखनी को सलाम

    उत्तर देंहटाएं
  35. इतनी बड़ी बात कही है कि कोई भी ऐसे विचार के अंदर जाए बगैर नहीं कह सकता. उम्दा रचना , मुबारक !

    उत्तर देंहटाएं
  36. उन्हें परहेज नहीं,
    उसके मुंह से आती बीड़ी की बास से।
    तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।

    उत्तर देंहटाएं
  37. आपका भी मेरे ब्लॉग मेरा मन आने के लिए बहुत आभार
    आपकी बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना...
    आपका मैं फालोवर बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,......
    मेरा एक ब्लॉग है

    http://dineshpareek19.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  38. इस षोडशी पर....
    कोई प्रेम गीत लिखो न कवि!...adbhud.....bejod....

    उत्तर देंहटाएं
  39. बेहद संवेदनशील रचना, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  40. दीपिका जी इन्टरनेट कने.सहज सुलभ न होने के कारण इस सुन्दर कविता को पढ नही पाई । कवियों ने अधिकांशतः स्त्री के देह सौन्दर्य और उसके प्रति आकर्षण को ही कविता का विषय बनाया है । कविता के लिये कोमल सौन्दर्य चाहिये ।( या फिर आत्मीयता ) आकर्षण चाहिये । उद्दीपन के उपादान चाहिये । कमली पर वह कविता कैसे लिखे भला ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. बेहतरीन प्रस्‍तुति। मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  42. उन्हें परहेज नहीं,
    उसके मुंह से आती बीड़ी की बास से।
    तो तुम्हारी कविता
    क्यों घबराती है कमली से।
    etni saral bhasha me aapne bahut kuch kah diya ........

    उत्तर देंहटाएं
  43. दीपिका जी, आपकी प्रस्तुति सुन्दर निति का पोषण कर रही है
    इसलिए आपको सुनीता कहना भी सार्थक है.

    बहुत बहुत हार्दिक आभार इस अनुपम प्रस्तुति के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  44. तुम श्रृंगार के कवि हो
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नज़रों से
    यहां-वहां झांकते हो

    बहुत ही सुन्दर पंक्तिया ....मन को छू गयी ..

    उत्तर देंहटाएं
  45. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  46. तुम श्रृंगार के कवि हो
    मुंह में कल्पना का पान दबाकर
    कोई रंगीन कविता थूकना चाहते हो।
    प्रेरणा की तलाश में
    टेढ़ी नज़रों से
    यहां-वहां झांकते हो।
    अखबार के चटपटे पन्‍नों पर
    कोई हसीन ख्वाब तलाशते हो।
    Laajawaab, behatreen,

    Prggressive contents and streightforwardness are natable.

    उत्तर देंहटाएं
  47. कमाल की रचना ...प्रभावशाली !

    उत्तर देंहटाएं
  48. सशक्त सम्वेदनशील ....गहन अभिव्यक्ति ...
    गहरे उतर गयी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  49. बिना लाग-लपेट के कही गयी बात...अत्यन्त सशक्त कविता...सुन्दर है। सबसे अच्छी बात है कि पाठक शुरू करने के बाद बीच में रुक नहीं सकता...मैंने एक साँस में पढ़ डाली यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  50. बेहद सशक्त अभिव्यक्ति. आजकल के सामाज की विकृत मनोदश का सटीक प्रस्तुतीकरण.

    बहुत सुन्दर. शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  51. बहुत अच्छी कविता। सचमुच यह कविता बड़ी मर्मस्पर्शी लगी। बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  52. दीपिका जी आपकी कविताओं में जीवन के की रंग बिखरे हैं ....बहुत सी कविताओं को पढने के बाद यही लगा कि आप बिम्बों और प्रतीकों का प्रयोग बखूबी करती हो ....जो की कविता को अर्थपूर्ण बना देते हैं ....~!

    उत्तर देंहटाएं
  53. आप भी न -नेहरू जी कहाँ गंदे ,नाक बहते बच्चे को गोद उठाते थे ?

    उत्तर देंहटाएं