अप्रैल 07, 2013

कैनवस

फिर से एक पुरानी कविता.....
दुनिया के हर रंग से बेखबर
एक कोने में चुपचाप खड़ा था
वह खाली कैनवस।

कुछ दूर टंगे थे
कुछ चंपई चेहरे
कुछ भूरी आंखें
रोज़ कुछ लकीरें उभरतीं
रोज कुछ रंग बिखरते
और तैयार होती एक मुकम्मल तस्वीर।
हसरत से देखता रहता
वह खाली कैनवस।

एक दिन खिड़कियां खुलीं
और अंदर घुस आया
धूप का एक शरारती टुकड़ा..
शबे-फ़ुरकत गुज़र चुकी थी।
आंखें मिचमिचाकर खुली ही थीं कि
जादुई उंगलियों ने प्यार से छुआ
खाली कैनवस को।

कुछ नक्‍श कुनमुनाए,
कुछ रंग चहके।
कलाकार ने पहना दिया उसे सुर्ख जोड़ा
और उसके बेवा सपने सुहागन हो गए।
अब तस्वीर बन चुका था
वह खाली कैनवस।

अब वह बेचारा नहीं, बेरंग नहीं
मगर फख्र से
अपने सीने पर बिखरे रंग
दुनिया को दिखाता कैनवस
अपनी पहचान खो चुका है।
लोग अब उसे तस्वीर कहते हैं।
क्या किसी ने देखा है,
तस्वीर के पीछे?
रंगों और लकीरों की जिम्मेदारी ढोता कैनवस
आज भी कहीं अकेला है।

15 टिप्‍पणियां:

  1. कैनवस का वजूद खत्म हो गया ....हर हाल में अकेलेपन से जूझता कैनवस... गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. कैनवस की कविता और कविता का कैनवस दोनों ही सराहनीय है |आदाब दीपिका जी |

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपिका जी कैनवास को आधार बनाकर बहुत कुछ बयाँ किया आपने ,भावपूर्ण रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. dhoop ke ek shararati tukade ne canvas me Jo rangeen sapane jagaye the uspe shayad aapka dhayan nahi gaya... Ya use pathakon ke liye chhod diya.

    Behtareen kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुनमुनाता रहे यह कैनवस
    रंग गहरे होते जाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. dhup ke shararati tukde ne canvas ko Jo satrangi sapane dikhaye the use to apane chhod hi diya...
    Shayad hamare liye.
    Bahut hi sundar kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने सीने पर बिखरे रंग
    दुनिया को दिखाता कैनवस
    अपनी पहचान खो चुका है।
    लोग अब उसे तस्वीर कहते हैं।
    क्या किसी ने देखा है,
    तस्वीर के पीछे?
    रंगों और लकीरों की जिम्मेदारी ढोता कैनवस
    आज भी कहीं अकेला है।

    क्या खूब कहा आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब कहा आपने। कैनवस को आधार बना कर कही गईं बातें एकदम भावपूर्ण हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब वह बेचारा नहीं, बेरंग नहीं
    मगर फख्र से
    अपने सीने पर बिखरे रंग
    दुनिया को दिखाता कैनवस
    अपनी पहचान खो चुका है।
    लोग अब उसे तस्वीर कहते हैं।
    क्या किसी ने देखा है,
    तस्वीर के पीछे?
    रंगों और लकीरों की जिम्मेदारी ढोता कैनवस
    आज भी कहीं अकेला है।

    आपने दायित्वों को जीवंत कर दिया जीवन के रंग बिखेरती केनवास

    उत्तर देंहटाएं
  10. हम सब ख़ाली कैनवास की तरह आते हैं और रंग भर चले जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अंदर से अकेला...बाहर से रंगबिरंगा..किसी दूसरे की तस्वीर को अपने सीने पर दिखाता...कैनवास का दिल अकेला ही..कहीं न कहीं हम भी होते हैं. ऐसे..

    उत्तर देंहटाएं