जुलाई 21, 2012

मुखौटा



राह चलते लोग
अक्सर खो देते हैं
अपनी आंखों की रोशनी
नज़रों के आगे होती है
उनकी मंज़िल
और मंज़िल की साधना में
वे अर्जुन होते हैं।
उन्हें दिखती है
चिड़िया की बाईं आंख
और बाकी चीज़ें धुंधली हो जाती हैं।

राह चलते लोग
मोह-माया से निर्लिप्त होते हैं
उन्हें नज़र नहीं आते
लड़कियों के फटते कपड़े
उन्हें नहीं दिखते
मचलते मसलते हाथ
दीन दुनिया से बेखबर होते हैं
राह चलते लोग।

एसी कमरों में
टीवी देखते लोगों की
असंख्य आंखें होती हैं
उनका मन कराहता है
सड़कों पर उतरती इज्ज़त से।
उनके हाथों में
सुबह का अखबार,
चाय की प्याली होती है
और दिल में सुलगती हुई आह
कब बदलेगा हमारा देश!”
कब होगी नारियों की इज्ज़त!”

एसी कमरों में
टीवी देखते लोग
दुनिया की परवाह करते हैं।
वे उफनते हैं
देश के बिगड़ते हालात पर।
दुर्योधनों की दरिंदगी पर
उनका खून खौलता है।

टीवी देखते लोग
कभी सड़कों पर नहीं उतरते
सड़कों पर चलते है
बस अर्जुन के मुखौटे
अर्जुन को दिखती है
चिड़िया की बाईं आंख
और चीरहरण के समय
वे अंधे हो जाते हैं।


33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर दीपिका जी...
    दिल में गहरे उतर गयी आपकी रचना....
    मुखौटे के पीछे की तस्वीर दिखा दी...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज हमारे समाज में मुखौटे ही सक्रिय हैं,इंसान तो न जाने कहाँ चला गया ??

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर ...
    मुखौटे पहने समाज का दर्शन कराती उत्कृष्ट प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस घर में बैठ कर चिंता जाता सकते हैं ....रोष प्रकट कर सकते हैं पर सड़क पर उतर कर आक्रोश नहीं दिखा सकते .... बहुत आक्रोशपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सही चित्र खींचा है आपने लोगों की उदासीनता का

    उत्तर देंहटाएं
  6. राह चलते लोग
    मोह-माया से निर्लिप्त होते हैं
    उन्हें नज़र नहीं आते
    लड़कियों के फटते कपड़े
    उन्हें नहीं दिखते
    मचलते मसलते हाथ
    दीन दुनिया से बेखबर होते हैं
    राह चलते लोग।............. उन्हें दिखता है , वे देखना नहीं चाहते यूँ कहें रुक कर देखते हैं , उनका लक्ष्य ही यही है

    उत्तर देंहटाएं
  7. लोग
    अक्सर खो देते हैं
    अपनी आंखों की रोशनी sach hai !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. घर में बैठे लोग आक्रोश दिखाते है
    पर बाहर निकल कर कोई चिंता व्यक्त नहीं करता..
    लोग सिर्फ कहने को कहते है समस्या विकट है
    पर निराकरण को कोई आगे नहीं आता...
    बहुत ही उत्कृष्ठ व्यंग्य रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अर्जुन को दिखती है
    बस चिड़िया की बाईं आंख
    और चीरहरण के समय
    वह अंधे हो जाते हैं।

    बहुत ही सामयिक रचना

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच को बयाँ करती पंक्तियां ....बहुत बढ़िया ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. गहरी कसक लिए है आपकी रचना ... कडुवे यथार्थ को बयान किया है ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही करारा कटाक्ष है..
    सब दूसरे का इंतज़ार कर रहे हैं....वे बदलेंगे समाज तब तक ये चाय के साथ ख़बरें निगलेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वक़्त के साथ खूबसूरत वार्तालाप |

    उत्तर देंहटाएं
  14. अर्जुन को दिखती है
    बस चिड़िया की बाईं आंख
    और चीरहरण के समय
    वह अंधे हो जाते हैं।

    शानदार करारा व्यंग ए सी कमरे में बैठे पीड़ित लोगो के दिखावे के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुखौटे के पीछे का सच बयां कर गई आपकी अभिव्‍यक्ति ... गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  16. अंतिम पंक्तियों में आकर, एक साधारण सी लगने वाली कविता असाधारण हो जाती है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या खूब पेश किया है समाज के दोगले चहरों को.. मुखौटा पहना ये समाज रंग बदलता रहता है!

    उत्तर देंहटाएं
  18. टी.वी. देखते लोग सडकों पर नही उतरते ...वाह क्या बात है । एक पंक्ति में आपने सब कुछ कह दिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. और दिल में सुलगती हुई आह
    “कब बदलेगा हमारा देश!”
    “कब होगी नारियों की इज्ज़त!”


    waise naariyon ki ijjat hai bharat me......ha, kuchh gine chune asaamajik tatwon ki maansikta badalna jruri hai!

    rachna achhi hai...chintan ka vishay

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत परिपक्व रचना...

    अर्जुन को दिखती है
    चिड़िया की बाईं आंख
    और चीरहरण के समय
    वे अंधे हो जाते हैं।

    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खूबसूरत कविता है। मुखौटों के पीछे के चेहरों को उजागर करती हुई। पहली बार आपका ब्लाग देखा, आपकी कविता की तरह ब्लाग भी खूबसूरत है और ब्लाग के नाम ने भी रतनपुर बागीचे के गीत की याद दिला दी। बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत अच्छी प्रस्तुति! मेरे नए पोस्ट "छाते का सफरनामा" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बेहद संतुलित विचारणीय पर कही निराशा और खिन्नता से भर देने वाली लिखती रहे अगली पोस्ट का इंतजार रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  24. सही कह रही हैं आप।
    अगर यहाँ रहते तो शायद टीवी के सामने बंद कमरे में खून खौलाने वाले लोगों की फेरहिस्त में शामिल रहते।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बिलकुल इतेफ़ाक रखती हूँ आपकी इस बात पर ........कुछ लोग सिर्फ़ बयानबाजी और तटस्थ से बने रहना ही अपनी जिम्मेदारी समझते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  26. अर्जुन को दिखती है
    चिड़िया की बाईं आंख
    और चीरहरण के समय
    वे अंधे हो जाते हैं।

    wow...bauhat sahi kataksh...!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. और चीरहरण के समय
    वे अंधे हो जाते हैं।......katu sach....

    उत्तर देंहटाएं